Saturday, 15 February 2020

मैं लिख दूँगा...


hindi love poem
photo credit: Google.
















मैं लिख दूँगा
अपनी आँखों से
गिरते हुए आँसुओं
की धार के
बहने का प्रवाह।

मैं लिख दूँगा
बिस्तर में पड़ी
हुई सिलवटों को
सीधी करने में
गुजरी रात स्याह।

तुम अपने मस्करा
लगे खूबसूरत आँखों
को जरा तकलीफ़ देना 
पढ़ने को मेरी 
दास्तान-ए-हिज़्र।

मैं लिख दूँगा
अपने को सम्पूर्ण
संसाधनों से परिपूर्ण
व्यक्तित्व होने के
बावजूद तुमसे कभी
ना मिल पाने वाली
प्रेम करने की चाह।

©नीतिश तिवारी।







Wednesday, 12 February 2020

Love Shayari.

Photo credit: Google.




आपकी मोहब्बत में हमने कितने रक़ीब पाले हैं,
आपकी मेहरबानी से रातों में भी उजाले हैं,
यूँ तो कभी दिल का कोई ठिकाना ना रहा मगर,
आपके लिए तो हम सबसे बड़े दिलवाले हैं।

Aapki mohabbat mein humne kitne raqeeb pale hain,
Aapki meharbani se raaton mein bhi ujale hain,
Yun to kabhi dil ka koi thikana na raha magar,
Aapke liye to hum sabse bade dilwale hain.

©नीतिश तिवारी।

Saturday, 8 February 2020

Idea of implementing thoughts into results.

Idea and thoughts
Picture credit: pinterest.





Idea of implementing thoughts into results.

The idea of development is more important than the idea of thinking. What you think and what you believe will only be successful when you have enough resources to implement that raw idea into a fruitful product.

People management and ethics also plays important role in implementing any idea. The formation of your thoughts in your mind can only be heard if someone is ready to listen about that.

 Sometimes we also feel that there are more people around us to criticize our idea rather than accepting it. Hence it's important to explain your thoughts to those who have some kind of understandability. 

So let's have an idea & start implementing it.

Have a blessed day!

©Nitish Tiwary.

Friday, 7 February 2020

Hindi poem on Rose Day

happy rose day








एक तमन्ना तुम्हें गुलाब देने की,
एक झिझक तुम्हारे मना करने की,
साल दर साल गुजरते गए,
कई गुलाब खिले कई मुरझा गए,
पर ख्वाहिश आज भी जिंदा है,
कि इस बार तुम्हें गुलाब दे ही दूँ,
इस बार तुम्हें कह ही दूँ,
कि मेरा प्यार किसी दिन,
का मोहताज नहीं।

©नीतिश तिवारी।

Monday, 3 February 2020

वो इधर गया या उधर गया।

Mohabbat shayari





जमाना सो रहा था पर जाग रहे थे हम,
खुद की परछाई से अब भाग रहे थे हम,
अँधेरे का डर दिखाके तुम जीत जाओगे,
एक जमाने में कभी आग रहे थे हम।

हाल उसका ना पूछो जो छोड़कर चला गया,
मेरे पास नहीं तो शायद वो अपने घर गया,
उसकी तस्वीर दिखाकर उसका रास्ता पूछते हो,
मुझे नहीं मालूम वो इधर गया या उधर गया।

©नीतिश तिवारी।