Latest

6/recent/ticker-posts

वो इधर गया या उधर गया।

Mohabbat shayari





जमाना सो रहा था पर जाग रहे थे हम,
खुद की परछाई से अब भाग रहे थे हम,
अँधेरे का डर दिखाके तुम जीत जाओगे,
एक जमाने में कभी आग रहे थे हम।

हाल उसका ना पूछो जो छोड़कर चला गया,
मेरे पास नहीं तो शायद वो अपने घर गया,
उसकी तस्वीर दिखाकर उसका रास्ता पूछते हो,
मुझे नहीं मालूम वो इधर गया या उधर गया।

©नीतिश तिवारी।

Post a Comment

10 Comments

  1. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज सोमवार 03 फरवरी 2020 को साझा की गई है...... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद।

      Delete

  2. जमाना सो रहा था पर जाग रहे थे हम,
    खुद की परछाई से अब भाग रहे थे हम,
    अँधेरे का डर दिखाके तुम जीत जाओगे,
    एक जमाने में कभी आग रहे थे हम।
    गूढ़ अर्थ समेटे इन पंक्तियों की जितनी भी तारीफ करें कम होगी। बहुत-बहुत शुभकामनाएँ आदरणीय नीतीश जी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद पुरुषोत्तम जी।

      Delete
  3. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (05-02-2020) को    "आया ऋतुराज बसंत"   (चर्चा अंक - 3602)    पर भी होगी। 
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है। 
     --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'  

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद सर।

      Delete
  4. बहुत ही अच्छी रचना आपने लिखी है सही सही पंक्तियां हैं वह उधर गया या इधर गया सभी अपने आप में व्यस्त हैं सभी दौड़ती हुई जिंदगी के हमसफर बने हुए हैं बहुत सारे अर्थों को समेटे हुए खूबसूरत रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद अनिता जी।

      Delete

पोस्ट कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताएँ और शेयर करें।