Latest

6/recent/ticker-posts

गुनाह-ए-इश्क़ की सजा मिलेगी या रिहाई होगी?

Gunaah-e-ishq ki saja milegi ya rihai hogi

Pic credit: pinterest. 

Art work: self.



 












उसकी ख़्वाहिश मक़बूल की थी, उसे हार था पहनाया,

मेरी इस दिलदारी का उसने खूब था फायदा उठाया,

मेरे क़त्ल की तारीख़ उसने कुछ यूँ मुक़र्रर कर दी,

उसने शादी का न्योता अपने यार से था भेजवाया।


Uski khwahish maqbool ki thi, use haar tha pahnaya,

Meri iss dildaari ka usne khoob tha fayada uthaya,

Mere qatl ki tareekh usne kuch yun mukarrar kar di,

Usne shadi ka nyota apne yaar se tha bhejwaya.


इश्क़ की अदालत में हूँ, आज मेरे मोहब्बत की सुनवाई होगी,

गुनाह-ए-इश्क़ की सजा मिलेगी या आज मेरी रिहाई होगी,

मुक़दमा हो गया तो क्या मुझे आज भी भरोसा है उस पर,

जरा पता तो करो यारों, वो ये सब देखने जरूर आई होगी।


लेटेस्ट ग़ज़ल, शायरी, कविता और कहानी के लिए मेरा टेलीग्राम चैनल जॉइन करिए।
https://t.me/iwillrocknow


Ishq ki adalat mein hu, aaj mere mohabbat ki sunwai hogi,

Gunaah-e-ishq ki saja milegi ya aaj meri rihai hogi,

Muqadama ho gaya toh kya, mujhe aaj bhi bharosa hai uss par,

Jara pata toh karo yaaron, wo ye sab dekhne jarur aayi hogi.


©नीतिश तिवारी।

ये भी देखिए:






Post a Comment

10 Comments

  1. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन  में" आज शुक्रवार 29 जनवरी 2021 को साझा की गई है.........  "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद।

      Delete
  2. दोनों मुक्तक बहुत बहुत सुन्दर सराहनीय

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत शुक्रिया सर।

      Delete
  3. लाजवाब, खूबसूरत मुक्तक शुभप्रभात

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद।

      Delete

पोस्ट कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताएँ और शेयर करें।