Sunday, December 20, 2020

ख़त का जवाब रखा था हमने।

Hindi bewfai dard shayari









Pic credit: pinterest.



मुलाक़ातों के दौर का ख्वाब देखा था हमने,
उनके लिए हर रंग का गुलाब रखा था हमने,
रश्क इतना कि वो हमारे मैय्यत पर भी ना आए,
जनाज़े के बगल में ख़त का जवाब रखा था हमने।


Mulaqaton ke daur ka khwab dekha tha humne,
Unke liye har rang ka gulaab rakha tha humne,
Rashk itna ki wo humare maiyyat par bhi naa aaye,
Janaje ke bagal mein khat ka jawab rakha tha humne.


उस बेवफ़ा का आज भी मैं एहतराम करता हूँ,
अपनी शायरी में 'उसका' नहीं, 'उनका' लिखता हूँ।


Us bewfa ka aaj bhi main ehtaraam karta hoon,
Apni shayari mein 'uska' nahi, 'unka' likhta hoon.


©नीतिश तिवारी।





 

12 comments:

  1. ओह, लाजवाब पंक्तियाँ। ।।।। बहुत-बहुत शुभकामनाएँ आदरणीय नीतीश जी।।।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. रचना पढ़ने के लिए आपका शुक्रिया।

      Delete
  2. नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि के लिंक की चर्चा सोमवार 21 दिसंबर 2020 को 'जवान तैनात हैं देश की सरहदों पर' (चर्चा अंक- 3922) पर भी होगी।--
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्त्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाए।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।

    #रवीन्द्र_सिंह_यादव

    ReplyDelete
    Replies
    1. रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद।

      Delete
  3. वाह नीत‍िश जी, क्या खूब ल‍िखा है ....रश्क इतना कि वो हमारे मैय्यत पर भी ना आए,
    जनाज़े के बगल में ख़त का जवाब रखा था हमने।... संगद‍िलों को आइना द‍िखाती रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. मैं आभारी हूँ कि आपको मेरी रचना पसंद आयी।

      Delete
  4. बहुत बहुत सुन्दर सराहनीय

    ReplyDelete

पोस्ट कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताएँ और शेयर करें।