Sunday, 23 February 2020

ऐसे गले लगाऊँगा।

Pic credit: Google.





ऐसे गले लगाऊँगा,
दुल्हन तुझे बनाऊँगा,
आना है मुझे तेरी गली,
डोली में बिठा कर ले जाऊँगा।

Aise gale lagaunga,
Dulhan tujhe banaunga,
Aana hai mujhe teri gali,
Doli mein bitha kar le jaunga.


©नीतिश तिवारी।

6 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (26-02-2020) को    "डर लगता है"   (चर्चा अंक-3623)    पर भी होगी। 
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है। 
     --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'  

    ReplyDelete
    Replies
    1. रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद।

      Delete