Tuesday, December 29, 2020

Siyasat-daan ho gaye ho kya!

 

Siyasat-daan ho gaye ho kya

Pic credit: Unsplash dot com






मेरे ज़ख्मों से तुम अनजान हो गए हो क्या,
जहालत की पहचान हो गए हो क्या,
मुझसे किए वादे तुम इतनी जल्दी भूल जाते हो,
तुम भी आजकल सियासत-दान हो गए हो क्या।

Mere zakhmon se tum anjaan ho gaye ho kya,
Jahalat ki pahchaan ho gaye ho kya,
Mujhse kiye waade tum itni jaldi bhool jate ho,
Tum bhi aajkal siyasat-daan ho gaye ho kya.

©नीतिश तिवारी।


ये भी देखिए:





Saturday, December 26, 2020

Dard shayari- मासूम मोहब्बत का क़त्ल किया था उसने।

Dard hindi urdu shayari






सिर्फ़ अपनी हिज़्र के ख़ातिर वस्ल किया था उसने,
रक़ीब के जीस्त में अपना दख्ल दिया था उसने,
तहक़ीकात करने पर बोलने लगे कि यही रिवायत है,
मेरी मासूम मोहब्बत का कुछ यूँ क़त्ल किया था उसने।

Sirf apani hizr ke khatir wasl kiya tha usne,
Raqeeb ke jeest mein apna dakhal diya tha usne,
Tahqiqaat karne par bolne lage ki yahi riwayat hai,
Meri masoom mohabbat ka kuch yun katl kiya tha usne.

©नीतिश तिवारी।




 

Monday, December 21, 2020

How to propose to your first love in new year 2021?

How to propose a girl in new year 2020









Photo credit: Pinterest.









How to propose to your first love in New year 2021 ?

नए साल में अपनी पहली मोहब्बत को कैसे प्रोपोज करें?


अंग्रेज़ी नववर्ष दस्तक देने को है। साजिशन तैयार किए हुए वुहान वायरस के प्रकोप से पूरी दुनिया त्रस्त है। ऐसे में हो सकता है कि हर साल की भांति इस साल नए साल के स्वागत में उतना Celebration ना हो। 


बाहर जाना सबके लिए मुमकिन ना हो और इस वक़्त avoid भी करना चाहिए। लेकिन ज़िंदगी में Celebration होते रहना चाहिए और नए साल के स्वागत में तो जरूर होना चाहिए। लेकिन सवाल तो ये है कि Celebration कैसे करें? अपने साथी, अपने महबूब, अपने दोस्त के साथ कैसे enjoy करें?


Lockdown में रोज आपने नए नए पकवान जरूर बनाए होंगे। इस गुलाबी सर्दी में उस पकवान को बनाकर और खाकर अपने रिश्तों में गरमाहट ला सकते हैं। मैंने तो कल ही गाजर का हलवा खाया था। अपने साथी के लिए उसके मनपसंद का भोजन तैयार करिये और बस परोस दीजिए। फिर वो ये कहने से अपने आप को नहीं रोक पाएँगे।


"मेरी चाहत को आज पूरी हो जाने दो

 इस स्वादिष्ट व्यंजन को जी भर कर खा लेने दो"


 प्यार के इज़हार करने का इससे बढिया तरीका नहीं हो सकता। 


अगर आपके साथी किताबें पढ़ने के शौकीन हैं तो नए साल में उन्हें अच्छी किताबें Gift करें।  रोमांस से भरपूर उपन्यास हो या कोई रोमांटिक फिल्म, अपनी पसंद के अनुरूप आप enjoy कर सकते हैं। फिर भी अगर तन्हाई पीछा ना छोड़े तो जॉन एलिया को याद कर लें।


"तुम जब आओगी तो खोया हुआ पाओगी मुझे 

मेरी तन्हाई में ख़्वाबों के सिवा कुछ भी नहीं 

मेरे कमरे को सजाने की तमन्ना है तुम्हें 

मेरे कमरे में किताबों के सिवा कुछ भी नहीं "


पकवान, किताब और फ़िल्म के बाद अगर सम्भव हो तो एक दिन की आउटिंग कर सकते हैं। नए साल में नजदीक के पार्क में जाकर  उन्हें गुलाब दीजिए। मेरी लिखी इन पंक्तियों को कहना कारगर साबित होगा।


"तुम बताओ तो सही तेरा हाल क्या है,

जवाब दे दूँगा मैं तेरा सवाल क्या है।


जी करता है तुझे एक गुलाब दे दूँ,

इस बारे में तेरा खयाल क्या है।


 सर्दी में भी माहौल गर्म हो रहा है,

जरा पता तो करो ये बवाल क्या है।


मेरा दिल तो रोज़ धड़कता है यहाँ,

उधर तेरे दिल का हाल क्या है।"


और फिर बाहर से घूम कर आने के बाद और अपने साथी के लिए ढेर सारा प्यार लुटाने के बाद आपको ये सुनने को मिल सकता है।


"तू जो मुस्कुराए तो मौसम में बहार आ जाए,

बंजर जमीन में भी बरखा की फुहार आ जाए,

मोहब्बत गर है तो फिर इज़हार कर दे,

कहीं देर ना हो जाए और  इतवार आ जाए।"


Enjoy. Happy New year 2021.


©नीतिश तिवारी।


ये भी देखिए: शायरी इश्क़ वाली।




 

Sunday, December 20, 2020

ख़त का जवाब रखा था हमने।

Hindi bewfai dard shayari









Pic credit: pinterest.



मुलाक़ातों के दौर का ख्वाब देखा था हमने,
उनके लिए हर रंग का गुलाब रखा था हमने,
रश्क इतना कि वो हमारे मैय्यत पर भी ना आए,
जनाज़े के बगल में ख़त का जवाब रखा था हमने।


Mulaqaton ke daur ka khwab dekha tha humne,
Unke liye har rang ka gulaab rakha tha humne,
Rashk itna ki wo humare maiyyat par bhi naa aaye,
Janaje ke bagal mein khat ka jawab rakha tha humne.


उस बेवफ़ा का आज भी मैं एहतराम करता हूँ,
अपनी शायरी में 'उसका' नहीं, 'उनका' लिखता हूँ।


Us bewfa ka aaj bhi main ehtaraam karta hoon,
Apni shayari mein 'uska' nahi, 'unka' likhta hoon.


©नीतिश तिवारी।





 

Thursday, December 17, 2020

गाना- मेरे ख़्वाबों की दौलत।

 

Bollywood romantic Hindi song




गाना- मेरे ख़्वाबों की दौलत।

मेरे ख़्वाबों की दौलत तुम, नींद पे पहरा फिर क्यों है,
रोज तुम्हें मैं याद हूँ करती, ज़ख्म ये गहरा फिर क्यों है।

मिलने जुलने की कोशिश में,
सदियों मैंने गुजार दिया। 2
बाकी रहा ना अब कुछ मुझमें,
दिल तो पहले ही हार दिया।

कैसे बताऊँ तुझसे मैं,
कितनी मोहब्बत करती हूँ। 2
तुमने भेजे थे ख़त जो,
मैं हर रोज वो पड़ती हूँ।

अबके सावन भी ना आए,
फिर ये बारिश किसके लिए है। 2

मेरे ख़्वाबों की दौलत तुम, नींद पे पहरा फिर क्यों है,
रोज तुम्हें मैं याद हूँ करती, ज़ख्म ये गहरा फिर क्यों है।

©नीतिश तिवारी।

                              ये भी देखिए:






Monday, December 14, 2020

मुझे तीन बार इश्क़ हुआ है।

 

Pic credit: Google.



मुझे तीन बार
इश्क़ हुआ है
पर हर बार
सिर्फ़ धोखा मिला है।

पहला इश्क़ दोस्ती
दूसरा इश्क़ मोहब्बत
और तीसरा इश्क़ तो
इश्क़ ही था।

अफसोस बस ये रहा
कि तीनों इश्क़ ने
साथ नहीं निभाया
बस किया और
छोड़ दिया।

©नीतिश तिवारी।
iwillrocknow.com



Saturday, December 12, 2020

मिलन की आरज़ू जगाए रखते हैं।

 

Pic credit: google.






बेबसी का ये आलम,
बिन बारिश का ये सावन,
हक़ अदा करें भी तो कैसे,
रूठ गया है मोरा साजन।

Bebasi ka ye aalam,
Bin barish ka ye savan,
Haq ada karen bhi toh kaise,
Rooth gaya hai mora sajan.

पिछली दीदार के खूबसूरत लम्हों को आँखों में सजाए रखते हैं,
हम उनसे मुलाक़ात के इंतज़ार में अपनी पलकें बिछाए रखते हैं,
वो घड़ी मोहब्बत की, वो उनके चेहरे का भोलापन,
हर रोज दिल में एक मिलन की आरज़ू जगाए रखते हैं।

Pichhli deedar ke khoobsurat lamhon ko aankhon mein sajaye rakhte hain,
Hum unse mulaqaat ke intzaar mein apni palken bichhaye rakhte hain,
Wo ghadi mohabbat ki, wo unke chehre ka bholapan,
Har roj dil mein ek milan ki aarzoo jagaye rakhte hain.

©नीतिश तिवारी।


Tuesday, December 8, 2020

दिल नादान, परेशान हो जाए तो क्या?

 





मुझे नहीं मिलता सुकून,
कहाँ गया वो जुनून,
हर चीज को पाने
की ज़िद।
ना कुछ भी खोने 
का डर।

दिल नादान, परेशान
हो जाये तो क्या,
सामने वाला हैरान
हो जाये तो क्या,

अपनी धुन में जो
मगन रहा,
उसी का मस्त 
जीवन रहा।

©नीतिश तिवारी।


Sunday, December 6, 2020

गाना-- ये दिल धड़कने लगा है।






ये दिल धड़कने लगा है,
ये जब से तुमसे मिला है। 2
तेरी साँवली सूरत पर क्यों,
ये दिल अब मरने लगा है। 2

वो पहली नज़र में देखना तुमको,
देखके तुमको यूँ मेरा तड़पना।
और फिर इस दिल का धड़कना,
इज़हार-ए- मोहब्बत को मेरा झिझकना।

मेरा दिल धड़कने लगा है,
ये जब से तुमसे मिला है। 2

मेरी ख्वाहिश  कि तुमको जी भर के देखूँ,
हर पल मैं सिर्फ तुमको ही सोंचूं। 2
अब हर कोई ये कहने लगा है,
मुझे इश्क़ ये होने लगा है। 2

मेरा दिल धड़कने लगा है,
ये जब से तुमसे मिला है । 2
तेरी साँवली सूरत पर क्यों,
ये दिल अब मरने लगा है। 2

©नीतिश तिवारी।