Monday, December 14, 2020

मुझे तीन बार इश्क़ हुआ है।

 

Pic credit: Google.



मुझे तीन बार
इश्क़ हुआ है
पर हर बार
सिर्फ़ धोखा मिला है।

पहला इश्क़ दोस्ती
दूसरा इश्क़ मोहब्बत
और तीसरा इश्क़ तो
इश्क़ ही था।

अफसोस बस ये रहा
कि तीनों इश्क़ ने
साथ नहीं निभाया
बस किया और
छोड़ दिया।

©नीतिश तिवारी।
iwillrocknow.com



12 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (16-12-2020) को "हाड़ कँपाता शीत"  (चर्चा अंक-3917)   पर भी होगी। 
    -- 
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है। 
    -- 
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।  
    सादर...! 
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 
    --

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद।

      Delete
  2. हृदयस्पर्शी सृजन ।

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सुंदर अनुज स्मृति बन तीनों साथ है।
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. हाँ, एक या दो होतीं तो भूल भी जाता। अब तीन तीन को भूलना सम्भव नहीं। 😊😊

      Delete
  4. बहुत बढि़या। बधाई और शुभकामनाएं।

    ReplyDelete

पोस्ट कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताएँ और शेयर करें।