Thursday, December 17, 2020

गाना- मेरे ख़्वाबों की दौलत।

 

Bollywood romantic Hindi song




गाना- मेरे ख़्वाबों की दौलत।

मेरे ख़्वाबों की दौलत तुम, नींद पे पहरा फिर क्यों है,
रोज तुम्हें मैं याद हूँ करती, ज़ख्म ये गहरा फिर क्यों है।

मिलने जुलने की कोशिश में,
सदियों मैंने गुजार दिया। 2
बाकी रहा ना अब कुछ मुझमें,
दिल तो पहले ही हार दिया।

कैसे बताऊँ तुझसे मैं,
कितनी मोहब्बत करती हूँ। 2
तुमने भेजे थे ख़त जो,
मैं हर रोज वो पड़ती हूँ।

अबके सावन भी ना आए,
फिर ये बारिश किसके लिए है। 2

मेरे ख़्वाबों की दौलत तुम, नींद पे पहरा फिर क्यों है,
रोज तुम्हें मैं याद हूँ करती, ज़ख्म ये गहरा फिर क्यों है।

©नीतिश तिवारी।

                              ये भी देखिए:






16 comments:

  1. Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद।

      Delete
  2. सादर नमस्कार,
    आपकी प्रविष्टि् की चर्चा शुक्रवार ( 18-12-2020) को "बेटियाँ -पवन-ऋचाएँ हैं" (चर्चा अंक- 3919) पर होगी। आप भी सादर आमंत्रित है।
    धन्यवाद.

    "मीना भारद्वाज"

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरी रचना शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद।

      Delete
  3. Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद सर।

      Delete
  4. बहुत सुंदर गीत सुंदर गेयता लिए।
    बधाई।

    ReplyDelete
  5. वाह!!!!
    लाजवाब गीत...।

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुंदर सृजन अनुज।

    ReplyDelete
  7. मुग्ध करती सुन्दर रचना।

    ReplyDelete

पोस्ट कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताएँ और शेयर करें।