Wednesday, September 23, 2020

इश्क़ का नाम अगर भूलना होता तो...


Pic credit: Google.





सिर्फ़ पा लेना ही प्यार नहीं, उसे मरते दम तक चाहना भी प्यार है। ये बात कहने वाले ये नहीं समझ पाते कि उस चाहत में तड़प ज्यादा होती है। तड़प होती है किसी और के लिए उसे मुस्कुराते देखते हुए। तड़प होती है जब वो किसी और की बाहों से लिपटकर उससे मोहब्बत करती है। चाहत और मोहब्बत के बीच के फर्क को सिर्फ़ वो आशिक़ बयाँ कर सकता है जिसने आठों पहर, बारह मास, अब भी उसे पाने के ख़्वाब देखता है। आशिक़ को फर्क ही नहीं पड़ता कि वो किसी और की हो चुकी है। शायद इसलिए कि उसने
उसे तन से तो जुदा हो जाने दिया लेकिन अपने मन से कभी निकाल नहीं पाया। भूलकर करता भी तो क्या? इश्क़ का नाम अगर भूलना होता तो इश्क़ की दास्तानें ना होतीं। वफ़ा अगर इतना खुदगर्ज़ होता तो आशिक़ इतने दिवाने ना होते।

©नीतिश तिवारी।
पोस्ट पसंद आयी हो तो इंस्टाग्राम पर फॉलो कर सकते हैं।
@poetnitish

 

Friday, September 18, 2020

वक़्त का हिसाब देखो।

 




सो जाओ और तुम ख़्वाब देखो,
नींद में भी खिलता गुलाब देखो,
मोहब्बत का मंजर बदल गया तो क्या,
वक़्त आने दो और वक़्त का हिसाब देखो।

So jao aur tum khwab dekho,
Neend mein bhi khilta gulab dekho,
Mohabbat ka manjar badal gaya toh kya,
Waqt aane do aur waqt ka hisaab dekho.

©नीतिश तिवारी।

इंस्टाग्राम पर फॉलो करिये।
@poetnitish


Monday, September 14, 2020

जब सीख लेना इश्क़।

 

Hindi diwas
Pic credit: Google .







जब देखना मुझे तो किसी और को ना देखना,
जब चाहना मुझे तो सिर्फ मुझे ही चाहना,
इस उम्र में अक्सर हो जाया करती हैं नादानियाँ,
जब सीख लेना इश्क़ तो किसी और से मत करना।

Jab dekhna mujhe toh kisi aur ko na dekhna,
Jab chahna mujhe toh sirf mujhe hi chahna,
Iss umr mein aksar ho jaya karti hain nadani ham,
Jab seekh lena ishq toh kisi aur se mat karna.

आप सभी को हिन्दी दिवस की ढेर सारी शुभकामनाएँ।

©नीतिश तिवारी।


Sunday, September 13, 2020

तुझमें मेरा कुछ नहीं।

Kavita

                                             Pic credit : pinterest.




     तुझमें मेरा कुछ नहीं तो
       बस इतना ही एहसान कर दे,
    जो इश्क़ किया था तुझसे
     उसको अब वापस कर दे।

       मैं सहेज लूँगा तेरी यादों को,
      दिल में रखूँगा तेरी बातों को
       नींद आये मुझे या ना आये,
       मैं रोज देखूँगा उन ख्वाबों को।

       ©नीतिश तिवारी।

Please like my facebook page.

 



 

Friday, September 4, 2020

उसको तुम बता देना...

dard shayai




निभा सको तो मेरा किरदार निभा देना,
जता सको तो तोड़ा प्यार जता देना,
इस नाउम्मीद जिंदगी में तुमसे है उम्मीद ज़रा,
तड़पू जो किसी की ख़ातिर तो उसको तुम बता देना.


©नीतिश तिवारी।

Ye bhi padhiye: My letter to Dhoni