Skip to main content

Posts

Showing posts from March, 2021

Main teri khoobsurti par gurur karunga.

  कलम कहे कुछ लिख डालो, दिल कहे पहले धोखा खाओ, वो कहे मैं प्यार करूँगी, मैं कहूँ अब आ भी जाओ। Kalam kahe kuch likh dalo, Dil kahe pahle dhokha khao, Woh kahe main pyar karungi, Main kahu ab aa bhi jaao. दीवाने तुम हुए, पागल मैं हो गया, श्रृंगार तुमने किया, घायल मैं हो गया, दीदार-ए-हुस्न ऐसा, एक भी अमावश ना हुई, बरसते रहे तुम हरदम, बादल मैं हो गया। Deewane tum huye, pagal main ho gaya, Srinagar tumne kiya, ghayal main ho gaya, Deedar-e-husn aisa, ek bhi amawas na hui, Baraste rahe tum hardam, badal main ho gaya. पंक्षी, नदियाँ, भँवरे, सावन, सबकी गवाही मंजूर करूँगा, इस बार तुम मिलना हमसे, इश्क़ तुमसे मैं भरपूर करूँगा। ना कोई शिकवा रहेगी, और ना ही कोई शिकायत, साथ रखूँगा तुम्हे हमेशा, ना कभी खुद से दूर करूँगा। कायनात ने तुम्हें इतना खूबसूरत बनाया, मैं तेरी खूबसूरती पर गुरुर करूँगा। Pankshi, nadiyan, bhanwre, sawan, Sabki gawahi manjoor karunga, Iss baar tum milna humse, Ishq tumhe main bharpoor karunga. Naa koi shikwa rahegi, Aur naa hi koi shikayat, Saath rakhunga tumhe humesha, Naa kabhi

Dard bhari bewafa shayari | दर्द भरी बेवफ़ा शायरी।

  Dard bhari bewafa shayari | दर्द भरी बेवफ़ा शायरी। बेवफ़ा ने जो सितम किया वो भुलाया ना जाएगा, किसी और से दिल अब कभी लगाया ना जाएगा, ग़म की चादर पर आँसुओं की बरसात हो रही है, महफ़िल कोई भी हो, अब हमसे मुस्कुराया ना जाएगा। Bewafa ne jo sitam kiya wo bhulaya naa jayega, Kisi aur se dil ab kabhi lagaya na jayega, Gham ki chadar par aansuon ki barsaat ho rahi hai, Mehfil koi bhi ho, ab humse muskuraya naa jayega. कह दो चाँद से कि वो अपनी रौशनी मद्धम कर ले, सूरज से गुजारिश करो कि कल से वो ना निकले, उजालों से दोस्ती थी, मैं अंधेरों का तलबगार हो गया, मेरे हिस्से का इश्क़ वो ले गए और मैं बीमार हो गया। Keh do chand se ki wo apni raushni madham kar le, Sooraj se gujarish karo ki kal se wo na nikle, Ujalon se dosti thi, main andheron ka talabgaar ho gaya, Mere hisse ka ishq wo le gaye aur main beemar ho gaya. इश्क़ में ग़लतफ़हमी से गुजारा नहीं होता, एक ही शख्स से इश्क़ दुबारा नहीं होता, तुम जिसे चाहते हो उससे नजदीकियाँ बढ़ाओ, दूर रहने वाला कभी हमारा नहीं होता। Ishq mein galatfahmi se gujara nahi hota, Ek

Aur phir Log Waah Waah Karte Hain!

  शीशे का दिल था, धोखा मिला और टूट गए, न जाने कौन सी ख़ता हुई जो वो हमसे रूठ गए, किस्से, कहानी, शायरी, ग़ज़ल ये सब दिल बहलाने को अच्छा है, मुझसे दूर होकर, वो मेरी खुशियों का खजाना लूट गए। Sheeshe ka dil tha, dhokha mila aur tut gaye, Na jane kaun si khata huyi jo wo humse rooth gaye, Kisse, kahani, shayari, ghazal, ye sab dil bahlane ko achchha hai, Mujhse door hokar wo meri khushiyon ka khajana loot gaye. दिल टूटता है आवाज नहीं आती, लोगों को खबर भी नहीं रहती। फिर मैं कविता लिखता हूँ, कुछ शेर कहता हूँ, एक ग़ज़ल बन जाती है, कुछ नज़्म गुनगुनाता हूँ, अपने आँसू पोछता हूँ, उनके  दिए दर्द  समेटता हूँ, और फिर... लोग वाह-वाह करते हैं! Dil Tutta Hai, Awaaz nahin aati. Logon ko khabar bhi nahin rahti. Phir main Kavita likhta hun, Kuchh sher Kahta hun. Ek Ghazal Ban Jaati Hai, Kuchh nazm gungunata hun, Apne Aanshu pochhta hun, Unke diye Dard sametta hun, Aur phir Log Waah Waah Karte Hain! तुम रही थी कभी मेरी प्रेमिका, आज हो तुम किसी की अर्धांगिनी, तुम देना उसको खूब संजीव

Kudrat karishma jarur karegi | क़ुदरत करिश्मा जरूर करेगी।

  Kudrat karishma jarur karegi | क़ुदरत करिश्मा जरूर करेगी। ये वक़्त कठिन है, गुजर जाएगा। खुशियाँ जब आएँगी, तो तेरा दामन भर जाएगा। कुदरत एक दिन, करिश्मा जरूर करेगी, गाँव में रहने वाला लड़का, एक दिन बड़े शहर जाएगा। Ye waqt kathin hai, Gujar jayega. Khushiya jab aayengi, Toh tera daman bhar jayega. Kudrat ek din, karishma jarur karegi, Gaanw mein rahne wala ladka, Ek din bade shahar jayega. ©नीतिश तिवारी।

Subscribe To My YouTube Channel