Skip to main content

Aur phir Log Waah Waah Karte Hain!

 

Aur phir log waah waah karte hain




शीशे का दिल था, धोखा मिला और टूट गए,
न जाने कौन सी ख़ता हुई जो वो हमसे रूठ गए, किस्से, कहानी, शायरी, ग़ज़ल ये सब दिल बहलाने को अच्छा है,
मुझसे दूर होकर, वो मेरी खुशियों का खजाना लूट गए।

Sheeshe ka dil tha, dhokha mila aur tut gaye,
Na jane kaun si khata huyi jo wo humse rooth gaye,
Kisse, kahani, shayari, ghazal, ye sab dil bahlane ko achchha hai,
Mujhse door hokar wo meri khushiyon ka khajana loot gaye.


दिल टूटता है आवाज नहीं आती,
लोगों को खबर भी नहीं रहती।
फिर मैं कविता लिखता हूँ,
कुछ शेर कहता हूँ,
एक ग़ज़ल बन जाती है,
कुछ नज़्म गुनगुनाता हूँ,
अपने आँसू पोछता हूँ,
उनके 
दिए दर्द समेटता हूँ,

और फिर...
लोग वाह-वाह करते हैं!

Dil Tutta Hai, Awaaz nahin aati.
Logon ko khabar bhi nahin rahti.
Phir main Kavita likhta hun,
Kuchh sher Kahta hun.
Ek Ghazal Ban Jaati Hai,
Kuchh nazm gungunata hun,
Apne Aanshu pochhta hun,
Unke diye Dard sametta hun,
Aur phir Log Waah Waah Karte Hain!


तुम रही थी कभी मेरी प्रेमिका,
आज हो तुम किसी की अर्धांगिनी,
तुम देना उसको खूब संजीवनी।
हमारा क्या, हम तो तुम्हारे दिए हुए
विष को पीकर नीलकंठ हो गए,
लेकिन तुम कभी चिंता मत करना।

तुम्हारी जिंदगी में
सिर्फ अमृत वर्षा हो!
ऐसी ही हम कामना करेंगे।
तुझको हमेशा अपना कहेंगे,
तुझको हमेशा अपना कहेंगे।

Tum rahi thi Kabhi Meri Premika,
Aaj Ho Tum Kisi Ki Ardhangini,
Tum Dena usko Khoob Sanjivani.
Hamara kya, Hum toh Tumhare diye Hue, Vish ko pikar Neelkanth ho gaye.
lekin tum Kabhi Chinta Mat Karna,

Tumhari Jindagi Mein,
Sirf Amrit Varsha Ho!
Aisi hi hum Kamnaa Karenge,
Tujhko Hamesha Apna Kahenge,
Tujhko Hamesha Apna Kahenge.


©नीतिश तिवारी।

ये भी पढिए: क्योंकि खुश रहना है जरूरी।


ये भी देखिए:







Comments

  1. बहुत बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद।

      Delete
  2. बहुत खूब
    अभट अच्छी रचना।

    नई पोस्ट गुजरे वक़्त में से...

    ReplyDelete
  3. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (07-03-2021) को    "किरचें मन की"  (चर्चा अंक- 3998)     पर भी होगी। 
    -- 
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है। 
    --  
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ-    
    --
    सादर...! 
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 
    --

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरी रचना शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद।

      Delete

Post a Comment

पोस्ट कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताएँ और शेयर करें।

Subscribe To My YouTube Channel

Popular posts from this blog

Who is real jabra Fan? Gavrav or me-My letter to Mr. Shah Rukh Khan.

To, My inspiration Shri  Shah Rukh Khan Ji Namaste I believe you’re enjoying your success as always. Many congratulations for FAN but I’m quite disappointed as far as collection of the movie is concern. Your work in fan is remarkable sir. I’m writing this letter just to express my love for you. You’ve inspired millions of people around the world. I’m one of them too. I love you not because your net worth is $600 M and you are biggest superstar in world, I love you because your life has given a reason to dream for a middle class youth like me. You’ve shown us the path of success with your hard work, commitment and dedication. The way you have achieved success in your life is truly phenomenal and inspirational. Sir, I come from a lower middle class family where talking about your dream is just like building castles in air. But somehow I’ve managed to dream big in my life. And I can say it with full pride that credit goes to you sir. When I was a child,

खुद को राजा तुम्हें रानी कहूँगा।

Pic credit: Google. प्रेम में साथ दोगी तो मैं खुद को राजा और तुम्हें  अपनी रानी कहूँगा। अगर जुदा हो गयी मुझसे तो खुद को फ़कीर फिर भी तुम्हें रानी कहूँगा। मेरा प्रेम इतना कमजोर नहीं है कि तुम्हें दी हुई रानी की उपाधि तुमसे छीन लूँ। Prem mein saath dogi Toh main khud ko raja Aur tumhen Apni rani kahunga. Agar juda ho gayi Mujhse toh khud ko Fakir phir bhi Tumhen rani kahunga. Mera prem itna kamjor Nahi hai ki tumhen di hui Rani ki upadhi Tumse chhin loon. ©नीतिश तिवारी।

Ishq mein pagal ho jaunga.

Image courtesy - Google. यूँ ना देखो ऐसे, मैं घायल हो जाऊँगा, तेरे इस हुस्न का, मैं कायल हो जाऊँगा, मेरे गीतों की गुनगुन सुनाई नहीं देती तो, तेरे इन पैरों का, मैं पायल हो जाऊँगा। अब के बरस प्यासी मत रहना तुम, सावन का नया, मैं बादल हो जाऊँगा। अश्कों को गिरने ना दूँगा पलकों से, तेरी इन आँखों का, मैं काजल हो जाऊँगा। सजने को जी करे जब तेरा तो बता देना, तेरी इन बाहों का, मैं आँचल हो जाऊँगा अब कितनी मोहब्बत करेगी रहने दे ना,   इश्क़ में एक दिन, मैं पागल हो जाऊँगा। ©नीतिश तिवारी।