Monday, 25 February 2019

Aadat si ho gayi hai.













Image courtesy: Google.






मेरा होश उड़ाने की तेरी आदत सी हो गयी है,
मेरा दिल धड़काने की तेरी आदत सी हो गयी है,
इश्क़ करना है तो जरा आहिस्ता- आहिस्ता कर,
तुझे रोज निहारने की मेरी आदत सी हो गयी है।


Mera hosh udane ki teri aadat si ho gayi hai,
Mera dil dhadkane ki teri aadat si ho gayi hai,
Ishq karna hai to jara aahista- aahista kar,
Tujhe roj nikharne ki meri aadat hi ho gayi hai.


©नीतिश तिवारी।

14 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (26-02-2019) को "अपने घर में सम्भल कर रहिए" (चर्चा अंक-3259) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरी रचना शामिल करने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद।

      Delete
  2. बहुत सुंदर पंक्तियां

    ReplyDelete
  3. आपकी लिखी रचना आज "पांच लिंकों का आनन्द में" बुधवार 27 फरवरी 2019 को साझा की गई है......... http://halchalwith5links.blogspot.in/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरी रचना शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद।

      Delete
  4. Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद।

      Delete
  5. वाह !! बहुत ख़ूब
    सादर

    ReplyDelete
  6. बहुत खूब..... ,सादर नमन

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद।

      Delete