Sunday, 25 August 2019

Main raat kaise guzarun.

























Pic credit : Pinterest.





मैं बदन को सवारूँ या अपने नसीब को सवारूँ,
तुझे दिल में बसा लूँ या अपने दिल से उतारूँ,
ख़्वाबों की ताबीर ऐसी हुई कि नींद टूटी चुकी है,
तू ही बता ओ ज़ालिम अब ये रात मैं कैसे गुजारूँ।

Main badan ko sanwarun ya apne naseeb ko sanwarun,
Tujhe dil mein basa lun ya apne dil se utarun,
Khwabon ki tabeer aisi huyi ki neend tut chuki hai,
Tu hi bata oo zalim ab ye raat main kaise guzarun.

©नीतिश तिवारी।





8 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (26-08-2019) को "ढाल दो साँचे में लोहा है गरम" (चर्चा अंक- 3439) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद सर।

      Delete
  2. मुश्किल है ऐसी रातें गुजारना ...
    बहुत खूब ...

    ReplyDelete