Monday, 13 May 2019

बचपन की बातें।

Childhood games of 90s kids








Pic credit : Pinterest.




रेत पर महल बनाए,
कागज़ के नाव चलाए,
बचपन की बाते थीं जनाब,
काश वो दिन फिर लौट आए।

Ret par mahal banaye,
Kagaz ke naam chalaye,
Bachpan ki wo baaten thi janab,
Kaash wo din fir laut aaye.

ये भी पढ़िए : शाहरुख खान के लिए मेरा पत्र।

©नीतिश तिवारी।






6 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (14-05-2019) को "लुटा हुआ ये शहर है" (चर्चा अंक- 3334) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद सर।

      Delete
  2. वाह बहुत खूब

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत धन्यवाद सर।

      Delete
  3. काश, लौट आते वो दिन, सुनहरे परों वाले वो पलक्षिण ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. दिन तो नहीं लौटेंगे लेकिन हम उन दिनों को याद तो कर ही सकते हैं।

      Delete