ना जाने क्या लिखूँ।


















कुछ अल्फ़ाज़ लिखूँ, 
कुछ ज़ज़्बात लिखूँ,
ना जाने क्या ख्वाब लिखूँ। 

अपने आँसू लिखूँ,

अपनी खुशी लिखूँ, 
ना जाने क्या हालात लिखूँ। 

तेरी वफ़ा लिखूँ ,

तेरी जफ़ा लिखूँ ,
ना जाने क्या सौगात लिखूँ। 

कभी पतझड़ लिखूँ ,

कभी सावन लिखूँ ,
ना जाने क्या मौसम लिखूँ। 

कभी तुझे लिखूँ ,

कभी उसे लिखूँ ,
न जाने मैं किस  किसको लिखूँ। 

©नीतिश तिवारी।

Comments

  1. hi nice poem
    thanks for ur comment on my blog
    I am following ur blog via gfc
    hope u follow back
    http://vanduchoudhary.blogspot.in/

    ReplyDelete
    Replies
    1. thank you so very much for your appriciation...

      Delete
  2. मंगलवार 12/11/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    आप भी एक नज़र देखें
    धन्यवाद .... आभार ....

    ReplyDelete
  3. कभी खुद को कभी हालत लिखूं
    रात के माथे पे क्या बात लिखूं
    जख्म ज़माने ने हजारों दिए हैं
    किस किस कहूँ क्या बात लिखूं
    मधु "मुस्कान "

    ReplyDelete

Post a Comment

पोस्ट कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताएँ और शेयर करें।

ये भी देखिए।

Who is real jabra Fan? Gavrav or me-My letter to Mr. Shah Rukh Khan.

शायरी संग्रह

Ishq mein pagal ho jaunga.

तेरी मोहब्बत ने शायर बना दिया।

शाहरुख खान मेरे गाँव आये थे।

Gazal- Ishq Mein Awara

चुनावी महाभारत 2019- कृष्ण कहाँ हैं? अर्जुन पुकार रहे!

सोलहवाँ सोमवार।

खुद को राजा तुम्हें रानी कहूँगा।

Ishq phir se dubaara kar liya.