Skip to main content

Posts

Showing posts from August, 2013

कुछ मैने कहा.... कुछ उसने कहा.

उसने कहा- मेरे चेहरे की रंगत उड़ा डाली तुमने, मैने कहा- इस रंगत का हकदार भी तो मैं था. उसने कहा- मेरे धड़कन से साँसे छीन ली तुमने, मैने कहा -उन साँसों का तलबगार भी तो मैं था. उसने कहा- मेरे नयनों से काजल मिटा दी तुमने, मैने कहा- उस काजल पर अधिकार भी तो मेरा था. उसने कहा- मेरे हर वादे को तोड़ दिया तुमने, मैने कहा- उन वादों को निभाया भी तो मैने था. उसने कहा- मेरी हसीन दुनिया को उजाड़ दी तुमने, मैने कहा-तेरी इस दुनिया को बसाया भी तो मैने था. प्यार के साथ, आपका नीतीश

बारिश

                          एक फुहार बनके बरखा आई है,                           आज मेरे तन को फिर से भिगोयी है.                           पर उस चंचल मन का क्या?                           जो इस सावन मेरे दिल पे छाई है.                           कभी बारिश की बूँदों में,                           तो कभी भीगे पत्तों में,                           एक बदली की तरह,                           उसकी तस्वीर नज़र आई है.                                                       प्यार के साथ,                           आपका नीतीश.

शायरी.... तुम्हारी याद मे

                       अगर तुझे ख्वाब कहूँ, तो नींदों में जीना चाहूँगा,                      अगर तुझे गुलाब कहूँ , तो कांटो में खिलना चाहूँगा,                      अगर तुझे जवाब कहूँ, तो सवालों को बुनना चाहूँगा,                      अगर तुझे शराब कहूँ, तो मयखानो में रहना चाहूँगा.                     सुना है लोग मोहब्बत में अपनी दुनिया लूटा देते हैं,                     और हमने इसी दुनिया में अपनी मोहब्बत लूटा दिया.                     इस महफ़िल की शान अभी बाकी है,                     मेरी ज़िंदगी का इम्तिहान अभी बाकी है,                     वो आ भी जाएँ तो गवाँरा नही मुझको,                     उनकी ज़ख़्मो के निशान अभी बाकी है.                     कहीं उठ ना जाए मोहब्बत से लोगों का भरोसा,                     यह सोचकर तुझे बेवफा का नाम ना दे पाए. WebRep currentVote noRating noWeight

Subscribe To My YouTube Channel