Saturday, 23 February 2019

Achha Laga Mujhe.













Image Courtesy : Google.



Bewfai ke baad bhi pyar.


अच्छा लगा मुझे
तेरा पीछे से
वार ना करना
हाँ मैं ही
कह रहा हूँ
अच्छा लगा मुझे
तेरा सामने से 
इनकार करना

अपनी खूबसूरत
अदाओं को
मेरे दुश्मन के
नाम करना
अच्छा लगा मुझे

अपनी जरूरतों को
पूरा करने के लिए
तेरा किसी और
का इस्तेमाल करना
अच्छा लगा मुझे

©नीतिश तिवारी।

10 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (24-02-2019) को "समय-समय का फेर" (चर्चा अंक-3257) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद सर।

      Delete
  2. अच्छा लगा मुझे
    तेरा पीछे से
    वार ना करना
    बहुत सुन्दर....

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद आपका।

      Delete
  3. बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
  4. Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद।

      Delete