Latest

6/recent/ticker-posts

Bewafa Shayari Collection | बेवफ़ाई वाली शायरी।

Bewafa shayari collection

 










Bewafa Shayari Collection | बेवफ़ाई वाली शायरी।


वो सोंचता है अक्सर मुझसे बेवफ़ाई करने को,
मैं फिर बेवफ़ा होकर उसके इरादे का क़त्ल कर देता हूँ।

Woh sochta hai aksar mujhse bewafai karne ko,
Main phir bewafa hokar uske irade ka qatl kar deta hoon.

उसकी तारीफ़ के ख़ातिर मैंने गुलाबों से दुश्मनी कर ली,
वो इस क़दर बेवफ़ा निकला, उसने गुलाबों से ही दोस्ती कर ली।

Uski tareef ke khatir maine gulabon se dushmani kar li,
Woh iss qadar bewafa nikala, usne gulabon se hi dosti kar li,

सारे जमाने की रुसवाई ख़ुदा ने मुझको अता कर दी,
मुझको बेवफ़ा कहते हैं लोग, ऐसी क्या मैंने ख़ता कर दी।

Sare jamane ki ruswai khuda ne mujhko ataa kar di,
Mujhko bewafa kahte hain log, aisi kya maine khata kar di.

तुझको याद करने की एक वजह भी मैं ना ढूँढ पाया,
और लोग कहते हैं कि बड़ा हसीन था तेरा हर एक साया।

Tujhko yaad karne ki ek wajah bhi main na dhoondh paya,
Aur log kahte hain ki bada haseen tha tera har ek saya.

मेरी गवाही मंजूर करेगा ऊपरवाला,
मैं अब लोगों के बज़्म का मोहताज़ नहीं हूँ।

Meri gawahi manjoor karega uparwala,
Main ab logon ke bazm ka mohtaaz nahi hoon.

मैं मोहब्बत में दर्द लिखने का अब आदी हो गया हूँ,
तूफान के बाद चारों तरफ पसरी वो बर्बादी हो गया हूँ,

Main mohabbat mein dard likhne ka ab aadii ho gaya hoon,
Toofan ke baad charo taraf pasari woh barbadi ho gaya hoon.

©नीतिश तिवारी।

Post a Comment

0 Comments