Latest

6/recent/ticker-posts

और फिर दिल को बड़ा आराम था।








तेरी मोहब्बत के कर्ज को अदा कर देता,
मैं तेरी ख़ातिर दूर से ही सजदा कर लेता,
जो तुमने अपनी मजबूरियाँ बताई होती तो,
मैं खुद को तुझसे जुदा भी कर लेता।

Teri mohbbat ke karz ko ada kar deta,
Main teri khatir door se hi sajda kar leta,
Jo tumne apni majbooriyan batai hoti toh,
Main khud ko tujhse juda bhi kar leta.

तुझसे किए वादे का एहतराम था, इसलिए मेरे हाथ में जाम था,
सारे आशिक़ बुलाये थे महफ़िल में और पूरा सब इंतज़ाम था,
सबने तफ़सील से सुनाई अपने हिज़्र-ए-मोहब्बत की दास्तान,
तेरी ग़ैरहाज़री में तेरा भी ज़िक्र हुआ, और फिर दिल को बड़ा आराम था।

Tujhse kiye wade ka ehtaraam tha, isliye mere haath mein jaam tha,
Saare aashiq bulaye the mehfil mein aur poora sab intzaam tha,
Sabne tafseel se sunai apne hizr-e-mohbbat ki dastaan,
Teri gair hazaro mein tera bhi zikar hua,
Aur phir dil ko bada aaram tha.

©नीतिश तिवारी।

मेरी शायरी परफॉर्मेंस जरूर देखें।






Post a Comment

10 Comments

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 28.01.2021 को चर्चा मंच पर दिया जाएगा| आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ाएगी
    धन्यवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. रचना शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद।

      Delete
  2. वाह!बहुत सुंदर अनुज ।

    ReplyDelete

पोस्ट कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताएँ और शेयर करें।