इश्क़ करने की औकात नहीं होती।

 





ज़ख्म-ए-ग़म ना मिले तो आँसुओं की बरसात नहीं होती,
भटकते हैं उसकी गलियों में फिर भी मुलाक़ात नहीं होती,
इश्क़ से परहेज़ करने को वही लोग कहते हैं,
जिनकी इश्क़ करने की कभी औकात नहीं होती।

Zakhm-e-gham na mile toh ansuon ki barsaat nahi hoti,
Bhatakte hain uski galiyon mein phir bhi mulaqat nahi hoti,
Ishq se parhez karne ko wahi log kahte hain,
Jinki ishq karne ki kabhi aukaat nahi hoti.

©नीतिश तिवारी।



Comments

Post a Comment

पोस्ट कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताएँ और शेयर करें।

ये भी देखिए।

Who is real jabra Fan? Gavrav or me-My letter to Mr. Shah Rukh Khan.

शायरी संग्रह

Ishq mein pagal ho jaunga.

तेरी मोहब्बत ने शायर बना दिया।

Gazal- Ishq Mein Awara

शाहरुख खान मेरे गाँव आये थे।

Ishq phir se dubaara kar liya.

चुनावी महाभारत 2019- कृष्ण कहाँ हैं? अर्जुन पुकार रहे!

सोलहवाँ सोमवार।

खुद को राजा तुम्हें रानी कहूँगा।