Wednesday, November 11, 2020

हर रोज वो नज़र रखते हैं।

फ़ोटो: गूगल से साभार।






लहज़े में मोहब्बत और दिल में ज़हर रखते हैं,
कुछ लोग दर्द देने का कमाल का हुनर रखते हैं,
हमारे पुराने ज़ख्म को वो भरने भी नहीं देते,
हमारी नयी मोहब्बत पर हर रोज वो नज़र रखते हैं।

Lahze mein mohabbat aur dil mein zehar rakhte hain,
Kuch log dard dene ka kamaal ka hunar rakhte hain,
Humare purane zakhm ko wo bharne bhi nahi dete,
Humari nayi mohabbat par har roj wo nazar rakhte hain.

© नीतिश तिवारी।


 

2 comments:

  1. बहुत सार्थक।
    धनतेरस की हार्दिक शुभकामनाएँ आपको।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद सर। आपको भी धनतेरस और दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ।

      Delete

पोस्ट कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताएँ और शेयर करें।