Wednesday, October 28, 2020

हमरा पर भरोसा काहे नइखे।




हमरा पर भरोसा काहे नइखे।

सुना ऐ माई,
हमरा पर भरोसा काहे नइखे,
तोहार बेटा हउवे क़ाबिल, क़ाबिल,
मत तू समझ एकरा जाहिल, जाहिल।

सुना ऐ माई
हमरा पे भरोसा काहे नइखे।

साहित्य बा एकरा ख़ातिर वंदन, वंदन।
करेला सबके मनोरंजन, मनोरंजन
एक दिन कमाई खूब पईसा, पईसा,
रही स्टार के जईसा जईसा।

©नीतिश तिवारी।


 

4 comments:

पोस्ट कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताएँ और शेयर करें।