Monday, July 20, 2020

ऐ इश्क़ तेरे ख़ातिर।


ऐ इश्क़ तेरे ख़ातिर
Pic credit: pinterest.






बेवफ़ाई उसकी बड़ी थी इश्क़ मेरा बौना हो गया,
इस तरह खेला उसने कि दिल मेरा खिलौना हो गया।

Bewfai uski badi thi ishq mera bauna ho gaya,
Iss tarah khela usne ki dil mera khilauna ho gaya .

कभी अपनी तक़दीर को कोसते फिर उसकी तस्वीर को देखते,
ऐ इश्क़ तेरे ख़ातिर हमने क्या क्या नहीं देखा।

Kabhi apni taqdeer ko koste phir uski tasveer ko dekhte,
Aie ishq tere khatir humne kya kya nahi dekha.

©नीतिश तिवारी।

10 comments:

  1. वियोग श्रंगार के सुन्दर अशआर।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद सर।

      Delete
  2. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (22-07-2020) को     "सावन का उपहार"   (चर्चा अंक-3770)     पर भी होगी। 
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।  
    सादर...! 
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'  
    --

    ReplyDelete
    Replies
    1. रचना शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद।

      Delete
  3. बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  4. मर्मस्पर्शी सृजन ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद अनीता जी।

      Delete

पोस्ट कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताएँ और शेयर करें।