Sunday, June 7, 2020

हमसे किया है हमीं पर आज़माना।


Pic credit : Pinterest.






हमसे किया है
हमीं पर आज़माना
मोहब्बत की बातें
किसी और को ना बताना।

चंदा सूरज सब
नाराज़ हो जाएंगे
जब मैं कहूँ तब ही
अपना घूँघट उठाना।

शर्म हया सब तुम्हारे
ही तो गहने हैं
किसी गैर के सामने
यूँ बेवजह ना आना।

मेरे दिल की धड़कन
अब गवाही देती है
वक़्त रहते तुम
सिर्फ मेरा हो जाना।

©नीतिश तिवारी।

14 comments:

  1. सादर नमस्कार,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा मंगलवार (09-06-2020) को
    "राख में दबी हुई, हमारे दिल की आग है।।" (चर्चा अंक-3727)
    पर भी होगी। आप भी सादर आमंत्रित है ।

    "मीना भारद्वाज"


    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद।

      Delete
  2. सुन्दर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद।

      Delete
  3. बहुत ही सुंदर सृजन हृदय स्पर्शी.

    ReplyDelete

पोस्ट कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताएँ और शेयर करें।