Tuesday, April 7, 2020

एक शायरी पिता के लिए।

Father's day shayari
Pic credit : pinterest






रोटी के जद्दोजहद में वो कितना मशगूल था,
अपने ईमान से समझौता उसे ना क़बूल था,
खुद भूखे रहकर बच्चों का पेट जो भरे,
यही उस बाप के जीवन का उसूल था।

Roti ke zaddojahad mein wo kitna mashgool tha,
Apne imaan se samjhauta use naa qabool tha,
Khud bhookhe rahkar bachchon ka pet jo bhare,
Yahi uss baap ke jeewan ka usool tha.

©नीतिश तिवारी।

ये भी देखिए।




2 comments:

  1. पिता ऐसा ही होता है ...
    बहुत भावपूर्ण मुक्तक है ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद।

      Delete

पोस्ट कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताएँ और शेयर करें।