Thursday, April 30, 2020

तुझसे मिलकर मैं खराब हो गया।


Shayari
Pic credit: instagram.







तुम अजनबी थे
तो मैं अच्छा था
जब से जाना तुझे
मैं खराब हो गया

होश में लाने को
लोग मुझ पर
पानी डालते हैं
और फिर से
मैं बेहोश हो
जाता हूँ

लगता है तुम्हारे
हुस्न के जादू से
पानी भी शराब 
हो गया
तुझसे मिलकर मैं
खराब हो गया

©नीतिश तिवारी।

8 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज शुक्रवार 01 मई 2020 को साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. रचना शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद।

      Delete
  2. वाह !बेहतरीन अभिव्यक्ति सर

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद अनिता जी।

      Delete

पोस्ट कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताएँ और शेयर करें।