Sunday, March 29, 2020

नीतिश के दोहे।

Pic credit: pinterest.





शब्दों में वजन हो, बोली में मिठास,
प्रकृति से प्रेम करो, नहीं तो होगा सर्वनाश।

डाली कहती पेड़ से, जुड़ी रहूँगी साथ,
मनुष्य का कुछ भरोसा नहीं, प्रकृति पर है आस।

दोहन करते प्रकृति का, ऐसे हो गए हैं लोग,
हवा पानी अब शुद्ध नहीं ,पकड़ रहा है रोग।

कितना कुछ दिया है प्रकृति ने, देखो चारो ओर,
संसाधन की कद्र नहीं तो भटकोगे मौत की ओर।

©नीतिश तिवारी।

4 comments:

  1. भावपक्ष तो सुन्दर है मगर कलापक्ष लचर है।
    इसलिए ये दोहे नहीं कहे जा सकते।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी टिप्पणी के लिए शुक्रिया।

      Delete

पोस्ट कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताएँ और शेयर करें।