Friday, 20 March 2020

मोहब्बत में इंकलाब आ जाएगा।

मोहब्बत में इंकलाब आ जाएगा।
Pic credit : Twitter.





तेरी झुकी नज़र इश्तिहार-ए-इश्क़ की दावत लगती है,
जरा मुझे तो देखो, मोहब्बत में इंकलाब आ जाएगा।

Teri jhuki nazar ishtihar-e-ishq ki dawat lagti hai,
Jara mujhe toh dekho, mohbbat mein inkalab aa jayega.

साज़िश नज़रों ने की, हरक़त मेरे दिल पर हुआ,
तेरी पलकों के उठते ही, मेरा इश्क़ मुक़म्मल हुआ।

Sazish nazron ne ki, harqat mere dil par hua,
Teri palkon ke uthte hi, mera ishq muqammal hua.

©नीतिश तिवारी।

वीडियो भी है:



14 comments:

  1. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा शनिवार(२१-०३-२०२०) को "विश्व गौरैया दिवस"( चर्चाअंक -३६४७ ) पर भी होगी।
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    ….
    अनीता सैनी

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद।

      Delete
  2. वाह!!!
    क्या बात...
    लाजवाब

    ReplyDelete
  3. वाह !! बहुत खूब ,सादर नमन

    ReplyDelete