Monday, 7 October 2019

Shayari fir se.

Shayari fir se























कलम का जोर कब तक दिखाओगे तुम,
स्याही खत्म होने के बाद उसे भुलाओगे तुम,
खत्म कर दो दास्ताँ बंद करो ये कहानी,
बिखरे हुए पत्तों को कब तक जलाओगे तुम।

Kalam ka jor kab tak dikhaoge tum,
Syahi khatm hone ke baad use bhulaoge tum,
Khatm kar do dastan band karo ye kahani,
Bikhre huye patton ko kab tak jaaoge tum.


©नीतिश तिवारी।

ये भी देखिए।




4 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (08-10-2019) को     "झूठ रहा है हार?"   (चर्चा अंक- 3482)  पर भी होगी। --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    -- 
    श्री रामनवमी और विजयादशमी की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. रचना शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद।

      Delete
  2. वाह बहुत खूब थोड़े में बड़ी बात।

    ReplyDelete