Wednesday, 30 October 2019

इबादत मैं करूँ सिर्फ तेरी।

Indian girl
Pic credit : Google.










ख्वाब भी तेरे, 
रौशनी भी तेरी,
हुस्न भी तेरा, 
तिश्नगी भी तेरी।
एक मैं ही अधूरा,
शाम-ए-महफ़िल में,
ज़ुल्फ़ भी तेरी,
सादगी भी तेरी।
तू मिले या ना मिले,
इबादत मैं करूँ,
अब सिर्फ तेरी।


Khwab bhi tere,
Raushni bhi teri,
Husn bhi tera,
Tishnagi bhi teri,.
Ek main hi adhoora,
Shaam-ae-mehfil mein,
Zulf bhi teri,
Saadgi bhi teri.
Tu mile ya na mile,
Ibadat main karun,
Ab sirf teri.

©नीतिश तिवारी।

12 comments:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 31.10.2019 को चर्चा मंच पर चर्चा - 3505 में दिया जाएगा । आपकी उपस्थिति इस मंच की गरिमा बढ़ाएगी ।

    धन्यवाद

    दिलबागसिंह विर्क

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद।

      Delete
  2. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" में शुक्रवार 01 नवम्बर 2019 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. रचना साझा करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद।

      Delete
  3. क्या बात 👌👌👌

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद।

      Delete
  4. बहुत खूब।
    ख़ुदा का ही दिया है सब। हम बस इबादत करते हैं वो भी उसकी है।

    यहाँ स्वागत है 👉👉 कविता 

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद।

      Delete
  5. बहुत खूब .....,सादर नमन

    ReplyDelete
  6. बहुत उम्दा/शानदार।

    ReplyDelete