Thursday, 19 September 2019

Ishq Shayari.


                 
Ishq shayari





उसके दर पर खड़ा हूँ, उसे खबर तो हो,
कभी उसके भी दिल में मेरा बसर तो हो,
वो होठों से जाम नहीं इश्क़ छलकाती है,
जरा सा ये इश्क़ मुझे भी मयस्सर तो हो।

Uske dar par khada hoon, use khabar toh ho,
Kabhi uske bhi dil mein mera basar toh ho,
Wo hothon se jaam nahin ishq chhalkati hai,
Jara sa ye ishq mujhe bhi mayassar to ho.

©नीतिश तिवारी।

4 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (20-09-2019) को    "हिन्दी को बिसराया है"   (चर्चा अंक- 3464)  (चर्चा अंक- 3457)    पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।  --हार्दिक शुभकामनाओं के साथ 
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. रचना शामिल करने के लिए आपका धन्यवाद।

      Delete