Wednesday, 4 September 2019

रूप बड़ा या गुण।

























pic credit: Google.


रूप बड़ा या गुण
अक्सर ये सवाल
भ्रम पैदा करता है

पर तुझे देखने
के बाद
तुझसे मिलने
के बाद

मैं भ्रम में
नहीं रहता
दोनों तो हैं
तुम्हारे पास

रूप ऐसा कि
चाँदनी बिखेरे है
गुण ऐसा कि
हीरे की तारीफ़
कम पड़ जाए

©नीतिश तिवारी।

4 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (06-09-2019) को    "हैं दिखावे के लिए दैरो-हरम"   (चर्चा अंक- 3450)    पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    शिक्षक दिवस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ 
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद।

      Delete