Monday, 29 July 2019

Shayari aur tera pyar.

























Pic credit : Pinterest.






शायरी में दर्द लिखूँ, ग़ज़ल में कयामत और कहानी में तेरा किरदार,
बहुत फरमाइश आ रही है, लो ज़िक्र कर ही देता हूँ, तेरा प्यार।

Shayari mein dard likhoon, gazal mein qayamat aur kahani mein tera kirdaar,
Bahut farmaish aa rahi hai, lo zikar kar hi deta hoon, tera pyar.

फूलों से दोस्ती, बगिया से प्यार, लहरों से इश्क़ , समंदर को सलाम, वो भी एक मौसम था।
काँटों से दोस्ती, पतझड़ से प्यार, सूखे से इश्क़, बंजर को सलाम, ये भी एक मौसम है।

Foolon se dosti, bagiya se pyar, lahron se ishq, samandar ko salaam, wo bhi ek mausam tha.
Kaanton se dosti, patjhad se pyar, sookhe se ishq, banjar ko salam, ye bhi ek mausam hai.

©नीतिश तिवारी।

6 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (30-07-2019) को charchamanch.blogspot.in/" > "गर्म चाय का प्याला आया" (चर्चा अंक- 3412) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. जब वो नहीं रहा, तो यह भी नहीं रहेगा

    ReplyDelete
  3. Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद।

      Delete