Sunday, 30 June 2019

Shayari- Mohabbat ka Dastoor.

























Pic courtesy : Google.





बिछड़ना मिलना मिलकर बिछड़ना,
तुम्हें खोकर भी तेरा हो जाना,
मोहब्बत का दस्तूर ही कुछ ऐसा है,
गलतफहमी को भी सच मान लेना।

Bichhadna milna milkar bichhadna,
Tumhen khokar bhi tera ho jana,
Mohabbat ka dastoor hi kuch aisa hai,
Galatfahmi ko bhi sach maan lena.

©नीतिश तिवारी।


4 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (01-07-2019) को " हम तुम्हें हाल-ए-दिल सुनाएँगे" (चर्चा अंक- 3383) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरी रचना शामिल करने के लिए आपका आभार।

      Delete
  2. ये गलतफहमियां जीने का संबल होती हैं ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. बिल्कुल सही कहा सर आपने। धन्यवाद।

      Delete