Tuesday, January 22, 2019

तुम तक...





आँखें ठहरीं तो बस तुम तक,
नींदे गहरी तो बस तुम तक,
यूँ तो सब कुछ थम सा गया था,
हवाएँ गुजरी तो बस तुम तक ।

©नीतिश तिवारी।



4 comments:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 28/01/2019 की बुलेटिन, " १२० वीं जयंती पर फ़ील्ड मार्शल करिअप्पा को ब्लॉग बुलेटिन का सलाम “ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद।

      Delete
  2. बहुत सुन्दर 👌
    सादर

    ReplyDelete

पोस्ट कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताएँ और शेयर करें।