Skip to main content

Posts

Showing posts from March, 2017

अधूरा पैमाना।

कोई बच नहीं सकता इस मोहब्बत की बीमारी से, बस एक पैमाना अधूरा रह जाता है होठों की अदाकारी से, यूँ नादान बने रहने का समय अब नहीं रहा, तुम पास तो आओ, कुछ हरकतें करते हैं। ©नीतिश तिवारी।

Subscribe To My YouTube Channel