Thursday, 2 October 2014

बुराई पर अच्छाई की जीत -दशहरा

Durga puja


पूरे देश में दशहरा व दुर्गा पूजा का पर्व हर्षौल्लास के साथ मनाया जा रहा है. मेरे गाँव में भी हमेशा की तरह माँ दुर्गा का भव्य पंडाल लगा है और दुर्गा माँ की आराधना हो रही है.करीब दस साल बाद दुर्गा पूजा के समय घर पर हूँ, पुरानी यादें ताज़ा हो गयी हैं जब दशहरा के दिन हमलोग बचपन में नये नये कपड़े पहनते थे और मिठाई खाने के लिए घर के सभी बड़े लोग रुपय देते थे.
दशहरा व दुर्गा पूजा बुराई पर अच्छाई की जीत का त्योहार है. इसी दिन प्रभु श्रीराम ने रावण को मारकर लंका पर विजय प्राप्त की थी. माँ दुर्गा ने महिसासुर राक्षस को मारकर लोगों का क्ल्याण किया था. उस समय तो सत्य की जीत हुई थी और धर्म की स्थापना हुई थी. 


Ravan


लेकिन क्या वर्तमान समय में ऐसा कुछ हो रहा है? शायद नही. चारो तरफ भ्रष्टाचार और लूट मचा हुआ है . आज हमारे  समाज में एक नही कई महिसासुर और रावण है जो समाज को अपने गंदे विचारों से खोखला करने पर तुले हुए है.जो लोग महिलाओं और बूढ़े लोगों का सम्मान नही करते वही आज ढोंगी बनकर बैठे हुए हैं हमारे देश में आज कई ऐसे बाबा और नेता हैं जो अपने अंदर कई बुराई का संग्रह्न किए हुए हैं और दूसरों को सत्य के मार्ग पर चलने को कहते हैं.

एक है निर्मल बाबा वो बोलता है- मिनी स्कर्ट पहनो और जींस पहनो कृपा बरसेगी .क्या बेहूदापन है यह . और मीडिया भी TRP और पैसे के लिए इस तरह के बकवास कार्यक्रम का प्रसारण करती रहती है जिससे लोगों को पथभ्रष्ट किया जा सके. और वो माँ बाप भी उतने ही दोषी हैं जो अपने बच्चों को इस तरह के कार्यक्रम में लेकर जाते हैं.




कभी हमारा भारत विश्वगुरु हुआ करता था. ये चाणक्य और स्वामी विवेकानंद की भूमि है जिन्होने पूरे दुनिया को धर्म का मार्ग दिखाया.हर साल सिर्फ़ रावण का पुतला जलाने से कुछ नही होगा. ज़रूरत है तो हमें अपने अंदर की बुराई को ख़त्म करने की और जिस दिन ये संभव हो जाएगा उस दिन से रावण के पुतले को जलाने की ज़रूरत नही पड़ेगी.


इस मौके पर भोजपुरी के स्टार गायक पवन सिंह के द्वारा गया हुआ एक भजन याद आ रहा है.."की मैया नाश करा हो ,बेडल जाता अत्याचार."

आप सभी को दुर्गा पूजा और दशहरा की हार्दिक शुभकामना.

हमेशा की तरह 
आपका नीतीश 


10 comments:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (03.10.2014) को "नवरात महिमा" (चर्चा अंक-1755)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, चर्चा मंच पर आपका स्वागत है, धन्यबाद।दुर्गापूजा की हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरी रचना शामिल करने के लिए आपका आभार राजेंद्र जी

      Delete
  2. Very nice post..
    Happy Vijayadashmi

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर सामयिक प्रस्तुति ..
    विजयादशमी की शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  4. I agree wid u,ppl really need to change now to celebrate these festivals in right sense
    Happy navratri to u too
    http://vanduchoudhary.blogspot.in/

    ReplyDelete
  5. एक नए अंदाज एवं शैली में प्रस्तुत आपकी पोस्ट अच्छी लगी। मेरे नए पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा।धन्यवाद।

    ReplyDelete