Sunday, March 30, 2014

तन्हाई का आलम.





                   इस दर्द-ए-इश्क में तन्हाई का आलम तो देखिए,
                   आजकल चेरापूंजी में भी रेगिस्तान नज़र आता है.

                   उसकी खामोशी ने इज़हार ना करने दिया,
                   और हम समझ बैठे की वो किसी और की है.
                                         
                                     आपका नीतीश

2 comments:

  1. अतिसुन्दर,बेहतरीन अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete

पोस्ट कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताएँ और शेयर करें।