Monday, 3 June 2019

Mohabbat ki shayari.

Pic credit : Google.







दर्द का डर था जब  मैं तेरे साथ था,
अब मेरा कुछ नहीं मोहब्बत बेहिसाब था।

Dard ka dar tha jab mai tere saath tha,
Ab mera kuch nahin mohabbat behisab tha.

हमें मालूम है कि हमारा कुसूर क्या है,
कि हमने मोहब्बत करने की खता की है।

Humen maloom hai ki humara kusur kya hai,
Ki humne mohabbat karne ki khata ki hai.

©नीतिश तिवारी।

6 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (05-06-2019) को "बोलता है जीवन" (चर्चा अंक- 3357) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    सभी मौमिन भाइयों को ईदुलफित्र की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरी रचना शामिल करने के लिए आपका धन्यवाद।

      Delete
  2. बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
  3. उम्दा प्रस्तुति ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद।

      Delete