Sunday, October 11, 2020

शाम को सहर कर गयी है।

                        Pic credit: Google.




जहरीले इश्क़ की दवा थोड़ी असर कर गयी है,

अजीब दुआ थी उसकी जो शाम को सहर कर गयी है,

रात भर करती रही वो सज़दा मुझसे बिछड़ने की,

सुबह खबर आई कि मेरी फाँसी मुकर्रर हो गयी है।


Zahreele ishq ki dawa thodi asar kar gayi hai,

Ajeeb duwa thi uski jo shaam ko sahar kar gayi hai,

Raat bhar karti rahi wo sazda mujhse bichchdne ki,

Subah khabar aayi ki meri fansi mukarr ho gayi hai.


©नीतिश तिवारी।




 

4 comments:

पोस्ट कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताएँ और शेयर करें।