Thursday, May 21, 2020

आशिक़ मधुशाला से निकलकर।


City of romance paris
Pic credit: Google.









तुम पेरिस, वेनिस
या फिर ज़्यूरिख
चले जाओ।

तुमने हमारे पवित्र
प्रेम पर जो
प्रतिघात किया है
उसकी प्रतिध्वनि
तुम्हें हर जगह
सुनाई देगी।

आशिक़ कभी कभी
मधुशाला से निकलकर
खूबसूरत शहरों में भी
विचरण करते हैं।

©नीतिश तिवारी।

पंक्तियाँ पसंद आई हों तो मेरे फेसबुक पेज को जरूर लाइक करें।
FB: poetnitish

Thank you!

4 comments:

  1. प्यार पर सुन्दर भावपूर्ण रचना।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी हौसलाफजाई के लिए शुक्रिया।

      Delete
  2. आशिक़ कभी कभी
    मधुशाला से निकलकर
    खूबसूरत शहरों में भी
    विचरण करते हैं।
    वाह बढ़िया प्रस्तुति

    ReplyDelete

पोस्ट कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताएँ और शेयर करें।