Thursday, January 2, 2020

कुछ बाकी है तो।

shayari

photo credit : unsplash










कुछ बाकी है तो बोल दो,
दिल के दरवाजे खोल दो,

बाद में कुछ नहीं रह जाएगा,
पंछी पिंजरा से उड़ जाएगा।

सात सुरों की सरगम में से,
एक भी सुर ना लग पाएगा।

कुछ बाकी है तो बोल दो,
बातों में मिसरी घोल दो।

©नीतिश तिवारी।

4 comments:

  1. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (03-01-2020) को "शब्द ऊर्जा हैं " (35 69 ) पर भी होगी।

    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का

    महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर

    आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    आप भी सादर आमंत्रित है

    "मीना भारद्वाज"

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद।

      Delete

पोस्ट कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताएँ और शेयर करें।