Skip to main content

Posts

Showing posts from February, 2020

शायरी बर्बादी वाली।

Photo credit: Pinterest. कहानी खत्म हो रही थी किरदार मर रहे थे, हम टूटे घर में थे लोग चौराहे से गुजर रहे थे, घर जल गया था फिर भी कुछ बेरहम थे जो, मेरी बर्बादी देखने के बाद भी वो सँवर रहे थे। Kahani khatm ho rahi thi kirdaar mar rahe the, Hum toote ghar mein the log chaurahe se gujar rahe the, Ghar jal gaya tha phir bhi kuch beraham the jo, Meri barbadi dekhne ke baad bhi sanwar rahe the. ©नीतिश तिवारी। ये भी देखिए:

मोहब्बत में मुकदमा।

Pic credit : Pinterest. मोहब्बत के मुक़दमे की सुनवाई होनी थी, इल्ज़ाम लगाने को पुख़्ता दलील ना मिला, आशिक़ अपनी पैरबी करता भी तो कैसे, ज़ख्म और दर्द को उसका वकील ना मिला। Mohabbat ke muqadame ki sunwai honi thi, Ilzaam lagaane ko pukhta daleel naa mila, Ashiq apni pairbi karta bhi to kaise, Zakham aur dard ko uska waqil naa mila. ©नीतिश तिवारी।

स्पर्श की चाह।

Pic credit: Google. कोमल हृदय विरक्त प्रवाह मुझे थोड़ी सी स्पर्श की चाह भाव विभोर से उमड़ता है मन विरह की आग में सुलगता बदन तुम्हें आगोश में लेने की चाहत तुम्हें दूर जाने की पुरानी आदत सुबह की किरण में तुम्हारी याद रात की चाँदनी भी तुमसे आबाद ©नीतिश तिवारी।

Namaste Trump! नरेंद्र मोदी को इतना पसंद क्यों करते हैं डोनाल्ड ट्रम्प?

pic credit: Google. 24 फरवरी 2020 को अमेरिकी राष्ट्रपति श्रीमान डोनाल्ड ट्रम्प का भारत आगमन हो रहा है। दुनिया के सबसे पुराने लोकतंत्र और दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र के मुखिया के इस मिलन समारोह पर पूरी दुनिया की नजर है। ट्रम्प अहमदाबाद एयरपोर्ट से रोड शो करते हुए सीधे मोटेरा क्रिकेट स्टेडियम जाकर उसका उदघाटन करने वाले हैं। एयरपोर्ट से स्टेडियम तक के पूरे रास्ते को दुल्हन की तरह सजा दिया गया है। सवाल ये है कि इतना स्वागत क्यों और मोदी जी हमेशा दुनिया के शीर्ष नेताओं को गुजरात ही क्यों बुलाते हैं। जवाब सीधा है, मोदी जी ने गुजरात में जो विकास किया है उसका संदेश पूरी दुनिया में देना चाहते हैं। जहाँ तक बात स्वागत की है तो अतिथि देवो भवः की परम्परा हमारे यहाँ शुरू से ही रही है।  Must Read:  Reason behind selective propaganda to defame the Narendra Modi government. मोदी और ट्रम्प में सबसे कॉमन कुछ है तो वो है राष्ट्रवाद। नरेंद्र मोदी की तरह राष्ट्रपति ट्रम्प भी अमेरिका फर्स्ट की नीति में विश्वास करते हैं। इसके अलावा दोनों की गहरी दोस्ती का कारण, पिछले कुछ वर्षों मे

ऐसे गले लगाऊँगा।

Pic credit: Google. ऐसे गले लगाऊँगा, दुल्हन तुझे बनाऊँगा, आना है मुझे तेरी गली, डोली में बिठा कर ले जाऊँगा। Aise gale lagaunga, Dulhan tujhe banaunga, Aana hai mujhe teri gali, Doli mein bitha kar le jaunga. ©नीतिश तिवारी।

कितनी अच्छी हो तुम.

photo credit: Google. नाराज हो जाती हो, फिर भी मान जाती हो, कितनी अच्छी हो तुम, जो हर पल मुझे चाहती हो। बिखर जाएँ जो जुल्फें, तो पहले उसे सँवारती हो, फिर मेरे काँधे पर, सर रखकर सो जाती हो। ©नीतिश तिवारी। Ye bhi padhiye:  प्यार की खुशबू।

मैं लिख दूँगा...

photo credit: Google. मैं लिख दूँगा अपनी आँखों से गिरते हुए आँसुओं की धार के बहने का प्रवाह। मैं लिख दूँगा बिस्तर में पड़ी हुई सिलवटों को सीधी करने में गुजरी रात स्याह। तुम अपने मस्करा लगे खूबसूरत आँखों को जरा तकलीफ़ देना  पढ़ने को मेरी  दास्तान-ए-हिज़्र। मैं लिख दूँगा अपने को सम्पूर्ण संसाधनों से परिपूर्ण व्यक्तित्व होने के बावजूद तुमसे कभी ना मिल पाने वाली प्रेम करने की चाह। ©नीतिश तिवारी। Ye bhi padhiye:  कैसे करुँ इज़हार-ए-मोहब्बत!

Love Shayari.

Photo credit: Google. आपकी मोहब्बत में हमने कितने रक़ीब पाले हैं, आपकी मेहरबानी से रातों में भी उजाले हैं, यूँ तो कभी दिल का कोई ठिकाना ना रहा मगर, आपके लिए तो हम सबसे बड़े दिलवाले हैं। Aapki mohabbat mein humne kitne raqeeb pale hain, Aapki meharbani se raaton mein bhi ujale hain, Yun to kabhi dil ka koi thikana na raha magar, Aapke liye to hum sabse bade dilwale hain. ©नीतिश तिवारी।

Idea of implementing thoughts into results.

Picture credit: pinterest. Idea of implementing thoughts into results. The idea of development is more important than the idea of thinking. What you think and what you believe will only be successful when you have enough resources to implement that raw idea into a fruitful product. People management and ethics also plays important role in implementing any idea. The formation of your thoughts in your mind can only be heard if someone is ready to listen about that.  Sometimes we also feel that there are more people around us to criticize our idea rather than accepting it. Hence it's important to explain your thoughts to those who have some kind of understandability.  So let's have an idea & start implementing it. Have a blessed day! ©Nitish Tiwary.

Hindi poem on Rose Day

एक तमन्ना तुम्हें गुलाब देने की, एक झिझक तुम्हारे मना करने की, साल दर साल गुजरते गए, कई गुलाब खिले कई मुरझा गए, पर ख्वाहिश आज भी जिंदा है, कि इस बार तुम्हें गुलाब दे ही दूँ, इस बार तुम्हें कह ही दूँ, कि मेरा प्यार किसी दिन, का मोहताज नहीं। Ek tamanna tumhe gulab dene ki Ek jhijhak tumahre mana karne ki Saal dar saal gujarte gaye Kai gulaab khile kai murjha gaye Par khwahish aaj bhi zinda hai Ki iss baar tumhe gulab de hi du Iss baar tumhen kah hi du Ki mere pyar kisi din  Ka mohtaz nahin hai ©नीतिश तिवारी। Ye bhi dekhiye:

वो इधर गया या उधर गया।

जमाना सो रहा था पर जाग रहे थे हम, खुद की परछाई से अब भाग रहे थे हम, अँधेरे का डर दिखाके तुम जीत जाओगे, एक जमाने में कभी आग रहे थे हम। हाल उसका ना पूछो जो छोड़कर चला गया, मेरे पास नहीं तो शायद वो अपने घर गया, उसकी तस्वीर दिखाकर उसका रास्ता पूछते हो, मुझे नहीं मालूम वो इधर गया या उधर गया। ©नीतिश तिवारी।

Subscribe To My YouTube Channel