Pages

Saturday, 28 December 2019

नए साल में मिलना, हम फिर से प्यार करेंगे।

Pic credit: pinterest






2019 अब बस चंद दिनों का मेहमान है। एक और साल बीत गया । कहते हैं समय किसी के लिए नहीं रुकता, सच है , बिल्कुल सच है। जिस तरह से तुमने साथ छोड़ा अब साल खत्म होते ही पुरानी यादें ताज़ा हो रही हैं। कदम बहके ना थे, होश खोया ना था, फिर भी तेरे जाने के बाद मैं क्यों इतना रोया था। इंतज़ार की आरज़ू आज भी है। हो सके तो नए साल में मिलना। सदी के बीसवें बरस में एक दूजे के होने का इंतजार करेंगे। हम फिर से एक दूसरे से प्यार करेंगे। 

©नीतिश तिवारी।


6 comments:

  1. Bahut Khub!"Hum phir se Pyar Karenge.." Ati Priya Rachna..Manohari..Vijayi Bhav!!

    ReplyDelete
  2. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा सोमवार (30-12-2019) को 'ढीठ बन नागफनी जी उठी!' चर्चा अंक 3565 पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित हैं…
    *****
    रवीन्द्र सिंह यादव

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद।

      Delete
  3. बहुत सच्ची और अच्छी बात

    ReplyDelete