Pages

Sunday, May 26, 2019

कविता- मोदी नए भारत की गाथा लिखेंगे।





















अब भर दिया हुंकार है,
ये जीत नहीं ललकार है,
कोई नहीं है टक्कर में,
विपक्ष पर करारा प्रहार है।

लोकतंत्र की जीत हुई है,
नए भारत का निर्माण होगा,
राष्ट्रवाद अब विजय हुआ है,
जनता के भरोसे का सम्मान होगा।

जन कल्याण की योजनाओं से,
पूरा बहुमत फिर से आया है,
बढ़ चढ़कर मतदान किया है,
तभी तो मोदी फिर से आया है।

राष्ट्र को सर्वप्रथम रखकर,
विकास की नई परिभाषा लिखेंगे,
जनता की अपेक्षाओं के अनुरूप,
मोदी नए भारत की गाथा लिखेंगे।

©नीतिश तिवारी।


6 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (27-05-2019) को "खुजली कान के पीछे की" (चर्चा अंक- 3348) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका बहुत बहुत धन्यवाद।

      Delete
  2. सामयिक रचना

    ReplyDelete

पोस्ट कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताएँ और शेयर करें।