Siyasat-daan ho gaye ho kya!

 

Siyasat-daan ho gaye ho kya

Pic credit: Unsplash dot com






मेरे ज़ख्मों से तुम अनजान हो गए हो क्या,
जहालत की पहचान हो गए हो क्या,
मुझसे किए वादे तुम इतनी जल्दी भूल जाते हो,
तुम भी आजकल सियासत-दान हो गए हो क्या।

Mere zakhmon se tum anjaan ho gaye ho kya,
Jahalat ki pahchaan ho gaye ho kya,
Mujhse kiye waade tum itni jaldi bhool jate ho,
Tum bhi aajkal siyasat-daan ho gaye ho kya.

©नीतिश तिवारी।


ये भी देखिए:





Comments

  1. सार्थक रचना।
    आने वाले नूतन वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद सर। आपको भी नववर्ष की शुभकामनाएं।

      Delete
  2. बहुत बहुत सुन्दर बढ़िया नीतिश जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद सर।

      Delete
  3. बेहतरीन सृजन !!

    ReplyDelete

Post a Comment

पोस्ट कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताएँ और शेयर करें।

ये भी देखिए।

Who is real jabra Fan? Gavrav or me-My letter to Mr. Shah Rukh Khan.

शायरी संग्रह

Ishq mein pagal ho jaunga.

तेरी मोहब्बत ने शायर बना दिया।

Gazal- Ishq Mein Awara

शाहरुख खान मेरे गाँव आये थे।

चुनावी महाभारत 2019- कृष्ण कहाँ हैं? अर्जुन पुकार रहे!

सोलहवाँ सोमवार।

Ishq phir se dubaara kar liya.

खुद को राजा तुम्हें रानी कहूँगा।